सोमवार, 6 दिसंबर 2010

तेरा अहसास........‘मन’ मेरे

तेरा अहसास.....‘मन’ मेरे
मेरे वजूद को
सम्पूर्ण बना देता है
और मैं
उस अहसास के
दायरे में सिमटी
बेतस लता सी
लिपट जाती हूँ
तुम्हारे स्वप्निल स्वरूप से
तब मेरा वजूद
पा लेता है
एक
नया स्वरूप
उस तरंग सा
जो उभर आती है
शांत जल में
सूर्य की पहली किरण से
झिलमिलाती है ज्यूँ
हरी दूब में
ओस की नन्ही बूंद
तेरी वो खुली बाहें
मुझे समा लेती हैं
जब
अपने आगोश में
तो ‘मन’ मेरे
मेरा होना सार्थक
हो जाता है
मेरा अस्तित्व
पूर्णता पा जाता है
और उस
समर्पण से अभिभूत हो
मेरी रूह के
जर्रे जर्रे से
तेरी खुशबू आने लगती है
और महक जाता है
मेरा रोम रोम......
पुलकित हो उठता है
एक ‘सुमन’ सा
तेरे अहसास का
ये दायरा
पहचान करा देता है
मेरी
मेरे वजूद से और
मेरे शब्दों को
आकार दे देता है
मेरी कल्पना को
मूरत दे देता है....
मैं
उड़ने लगती हूँ
स्वछ्न्द गगन में
उन्मुक्त
तुम संग
निर्भीक ,निडर
उस पंछी समान
जिसकी उड़ान में
कोई बन्धन नहीं
बस हर तरफ
राहें ही राहें हों.....
‘मन’ मेरे
तेरा ये अहसास
मुझे खुद से मिला देता है
मुझे जीना सिखा देता है
‘मन’ मेरे.....
‘मन’ मेरे...........!!

                                                                  
                                                                सु.मन 

सोमवार, 29 नवंबर 2010

इक क़तरा जिंदगी का................





















मैनें बोया था एक बीज तेरी याद का
कुछ दिन हुए एक कांटा उभर आया है

उससे जख़्म-ए-दिल को सिल रही हूँ ।

                                                                                  सु..मन 

शनिवार, 20 नवंबर 2010

उसका गम

क्यों वो चेहरा धुन्धला सा


             नज़र आने लगा है हमें


अपना होते हुए भी


            बेगाना लगने लगा है हमें


क्यों बैठे ही बैठे


            कहीं   डूब   जाते    हैं    हम


ना होती किसी की चाहत


            ना    किसी    का      गम

बस एक झलक को उसकी


           तरस    जाते    हैं    हम


ये सोचते ही सोचते


          उसके गम डूब जाते हैं हम.............


 
                                                                                                                     सु..मन 

सोमवार, 1 नवंबर 2010

जीवन राग

कुछ दिनों के बाद इस ब्लॉग को शुरू किये एक साल हो जायेगा ।जब ये सफर शुरू किया तो सोचा भी न था कि आप लोगों का इतना प्यार मिलेगा ......आज न जाने क्यूँ ब्लॉग की अपनी पहली कविता आप सबके साथ साझा करना चाहती हूँ .........

जीवन राग


जीवन राग की तान मस्तानी

समझे न ये मन अभिमानी ;


बंधता नित नव बन्धन में
करता क्रंदन फिर मन ही मन में ;


गिरता संभलता चोट खाता
बावरा मन चलता ही जाता ;


जिस्म से ये रूह के तार
कर देते जब मन को लाचार ;


होता तब इच्छाओं का अर्पण
मन पर ज्यूँ यथार्थ का पदार्पण ;


छंट जाता स्वप्निल कोहरा
दिखता जीवन का स्वरूप दोहरा ;


स्मरण है आती वो तान मस्तानी
न समझा था जिसे ये मन अभिमानी !!



                                                                                 सु..मन 
                                                                                   

शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2010

तेरे रंग में रंगने लगी है...............

तेरे रंग में रंगने लगी है...............


ऐ दोस्त,चल चलें साथ कुछ कदम
कि तन्हाई भी अब बातें करने लगी है

टूटने लगे हैं सब दायरे खामोशी के
कि आँखें भी अब तो बातें करने लगी है

दफ़न थे जो कुछ लफ़्ज अनकहे पन्नों में
कि कलम मेरी अब कुछ गुनगुनाने लगी है

सुकूं मेरे दिल को पहले भी था लेकिन
कि रूह से अब तेरी खुशबू महकने लगी है

ये वफा , ऐतबार हैं जो नज़राने दोस्ती के
कि जिंदगी अब इनकी चाहत करने लगी है

ऐ दोस्त, संभाले रखना ये ऐतबार मेरा
कि जिंदगी अब तेरे रंग में रंगने लगी है...............!!


                                                                                  सु..मन 

शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2010

बेमानी सब..........













अपनों का अपनापन झूठा सा लगता है
क्या कहें क्यों सब बेमानी सा लगता है

था सच जो दिखावा सा लगता है
हर रिश्ता अब तो टूटता सा लगता है

धागा था विश्वास का उलझा सा लगता है
पड़ गई गांठ उसमे गुमां सा लगता है

चमकता था हमेशा वो चाँद झूठा लगता है
चाँदनी से भी अब खौफ सा लगता है

था बन्धन रिश्तों का धोखा सा लगता है
हर कड़ी का सिरा खुला सा लगता है

रिश्तों का हर पहलु बदला सा लगता है
खुद जिंदगी से अपनी डर सा लगता है

छोटा दायरा सोच का बढ़ा सा लगता है
तड़पने के सिवा नहीं काम कुछ लगता है

जिंदगी रह गई है इन सोचों के लिये शायद
कुछ कम कुछ ज्यादा सबब रहता है................!!


                                                                                                           

                                                                                      सु..मन 

शुक्रवार, 17 सितंबर 2010

अहसास

अहसास


एक अबोध शिशु
माँ के आँचल में
लेता है जब
गहरी नींद
माँ उसको
अपलक निहारती
बलाऐं लेती
महसूस है करती
अपने ममत्व को
                  वो आगाज़ हूँ मैं .........

विरह में निष्प्राण तन
लौट है आता
चौराहे के छोर से
लिये साथ
अतीत की परछाई
भविष्य की रुसवाई
पथरीली आँखों में
सिवाय तड़प के
कुछ नहीं
          वो टूटन हूँ मैं ...........

कोमल हृदय में
देते हैं जब दस्तक
अनकहे शब्द
उलझे विचार
मानसपटल पर
करके द्वन्द
जो उतरता है
लेखनी से पट पर
                     वो जज़्बात हूँ मैं .........

थकी बूढ़ी आँखें
जीवन की कड़वाहट का
बोझ लिए
सारी रात खंगालती हैं
निद्रा के आशियाने को
या फिर
बाट जोहती हैं
अपने अगले पड़ाव का
                    वो अभिप्राय हूँ मैं ...........




वो आगाज़ में पनपा
                      टूटन में बिखरा
                                    जज़्बात में डूबा
                                                      अभिप्राय में जन्मा
                                                                                      ‘अहसास’ हूँ मैं !!
                     
                                                                                     

                                                                                                                                  सुमन मीत

शनिवार, 4 सितंबर 2010

ज़ख्म










ज़ख्म

बन्द हैं चौखट के उस पार
अतीत की कोठरी में
पलों के रत्न जड़ित
आभूषण
एक दबी सी आहट
सुनाती
एक दीर्घ गूंज
समय चलता
अपनी उलटी चाल
घिरता कल्पनाओं का लोक
लम्हों को परिचालित करता
अपने अक्ष पर
प्रतिध्वनित हो उठती
अनछुई छुअन
सरिता बन जाता
समुद्र का ठहराव
हरित हो उठती
पतझड़ की डालियाँ
लघु चिंतन में
सिमट जाता
पूरा स्वरूप
बन जाता
फिर......
एक रेत का महल
खुशियों का लबादा ओढ़े
दस्तक देता प्रलय
ढेर बन गए महल में
दब जाती
वो गूंज
रत्नों पर फन फैलाए
समय का नाग
डस लेता
देता एक सुलगता ज़ख्म
रिसता है जो
शाम ढले
उस चौखट को देखकर..........!!

                                                               सु..मन 






शुक्रवार, 20 अगस्त 2010

विचारों की चहलकदमी................

ये जो हमारा मन है ......बहुत बावरा है...........और इस मन में पनपते विचार उन्मुक्त पंछी........जो बस हर वक्त दूर गगन में उड़ना चाहते हैं .........कभी भोर की पहली किरण में.....कभी शाम की लाली में.......तो कभी रात की तन्हाई में............बस चहलकदमी करते रहते हैं .....कुछ इस तरह..............


विचारों की चहलकदमी................

आँखें बन्द करने पर
           
                ख़्वाब कहाँ आते हैं ;

विचारों की चहलकदमी में

               पल बीतते जाते है ;


नहीं रुकते उसके कदम
            
               चलते ही जाते हैं ;

नहीं होता कोई बन्धन
               
               बढ़ते ही जाते हैं ;

कभी चेहरे पर हंसी
           
               कभी रुला जाते हैं ;

लाख चाहने पर भी

               पकड़ में न आते हैं ;

सुलझाने की कोशिश में

               उलझते ही जाते हैं ;

ये ‘विचारों’ की है जुम्बिश

               जिसमें सब जकड़े जाते हैं ;

ज्यूं नदी की हर मौज में

               किनारे धंसते जाते हैं !!

                                                                                     सुमन ‘मीत’

शनिवार, 14 अगस्त 2010

नमन शहीदों को...............

15 अगस्त 1947 हमारा प्रथम स्वतंत्रता दिवस...............वो दिवस जिसे सभी आँखें देख पाई न देख सके हमारे शहीद जवान जो अपनी मातृभूमि के लिये हंसते हंसते कुर्बान हो गये । आज हमारे 63वें स्वतंत्रता दिवस पर ‘श्री माखनलाल चतुर्वेदी जी’ की यह कविता उन सभी जवानों और उनके परिवार वालों को समर्पित है जिन्होंने आजादी की जंग में अपनों को खोया है...............


पुष्प की अभिलाषा


चाह नहीं मैं सुरबाला के
गहनों में गुँथा जाऊँ,
चाह नहीं , प्रेमी माला में
बिंध प्यारी को ललचाऊं,

चाह नहीं, सम्राटों के सर पर
हे हरि डाला जाऊँ,
चाह नहीं देवों के सर पर
चढ़ूं , भाग्य पर इठलाऊँ ,

मुझे तोड़ लेना बनमाली !
उस पथ पर देना तुम फेंक,
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने ,
जिस पथ जाएँ वीर अनेक !!

                               माखनलाल चतुर्वेदी  


                                                     

शनिवार, 7 अगस्त 2010

मेरा आसमां.............

आजकल चाँद बादलों के संग आँख मिचोली करता रहता है और मुझे मेरा आसमां कुछ यूं नजर आता है.........................




                                             मेरा आसमां
                             
                              आज मेरा आसमां धुंधला सा है
                             
                              सितारों के बगैर चाँद सूना सा है;
                              
                              बादलों की परछाई जब उसे घेर लेती
                             
                              गुमसुम सी चाँदनी जैसे मुँह फेर लेती;
                             
                              बादलों ने भी रूख पे नकाब है ओढ़ा
                             
                              छलक पड़ेगा नीर जब सरकेगा वो थोड़ा;
                             
                              तब छंटेगी धुंध मेरे आसमां की
                             
                              निखर आयेगी चाँदनी इक मेहरबां सी ..........!!

                                                                                             सु..मन 

बुधवार, 28 जुलाई 2010

तुम आए हो................

कुछ दिनों से मेघ कुछ ज्यादा ही प्रसन्न दिखाई दे रहे हैं ........बस निर्झर बहते ही जा रहे हैं........... साथ में मतवाली धुन्ध जब अलमस्त हिरनी सी चाल में चलती है तो मन मुग्ध हो जाता है । रोज सुबह जब भी ऑफिस के लिये निकलती हूँ बारिश की हल्की हल्की बून्दें मन में स्पन्दन सा करने लगती है पहाड़ों पर मचलते फाहों के संग झूमने को मन करता है और मन गाने लगता है कुछ इस तरह............
घर की छत से कुछ यूं दिखते हैं नज़ारे
रास्ता कुछ यूं कटता है


तुम आए हो................

तुम आए हो मेरे सामने इक प्रीत की तरह
आओ गुनगुना लूं तुम्हें इक गीत की तरह

छा रही है सब तरफ आलम-ए-मदहोशी
कूचा-2 महकने लगा है पत्तों में हो रही सरगोशी


तुम आए हो मेरे सामने इक पैगाम की तरह
आओ पी लूं तुम्हें इक जाम की तरह

फिज़ाओं में लरजने लगा है इक तराना
गाने लगे हैं भंवरे कलियों ने सीखा है इतराना

तुम आए हो मेरे सामने जुस्तजू की तरह
आओ बिखेर दूं तुम्हें इक खुशबू की तरह

छा गये हो इन पर्वतों पे तुम यूं घनेरे
दरिया तूफानी कह रहा तुम हो मीत मेरे

तुम आए हो मेरे सामने इकरार की तरह
आओ अपना लूं तुम्हें इक प्यार की तरह
                          आओ अपना लूं तुम्हें........................!!
                                                                 
                                                                       सुमन ‘मीत’

बुधवार, 21 जुलाई 2010

इक कतरा जिन्दगी का.........










इक कतरा जिन्दगी का.........



रोज शाम यूं ही रात में बदलती है
                            पर हर रात अलग होती है
कभी आँखें ख्वाबों से बन्द रहती हैं
                           कभी तन्हा ही नम रहती हैं !!

                                                                                        सु..मन 

सोमवार, 12 जुलाई 2010

भूली याद




















बढ़ गया दायरा जब तन्हाई का या रब
तू भी बदल गया एक बेवफा की तरह ;

डाला था हमने खुद को तेरी पनाह में
ठूकरा दिया तूने भी एक इंसान की तरह ;

क्या करें शिकवा क्या शिकायत किसी से
तू तन्हा छोड गया एक मुसाफिर की तरह ;

रूह-ए-सकूं मांगा था तेरी निगेहबानी में
दगा दिया तूने भी एक अजनबी की तरह ;

अब तो है शब-ए-गम , तड़प और टूटे ख़ाब
तू आ जाता है कभी सामने एक याद की तरह !!

              ................................
                                                             सु..मन 




अर्पित 'सुमन'--------नई चेतना

शनिवार, 3 जुलाई 2010

बरसात

बरसात जब होले होले दस्तक देने लगती है तो इस धरा का जर्रा जर्रा महक उठता है यूं लगता है कि नवजीवन का संचार हुआ हो ।मन मचल उठता है कुछ लिखने को.........

बरसात



घना फैला कोहरा
कज़रारी सी रात
भीगे हुए बादल लेकर
फिर आई है ‘बरसात’;


   अनछुई सी कली है मह्की
   बारिश की बूंद उसपे है चहकी
   भंवरा है करता उसपे गुंजन
     ये जहाँ जैसे बन गया है मधुवन;


     रस की फुहार से तृप्त हुआ मन
     उमंग से जैसे भर गया हो जीवन
    ’बरसात’ है ये इस कदर सुहानी
          जिंदगी जिससे हो गई है रूमानी !!

                                                                                      
                                                                                                     सुमन 'मीत' 

मंगलवार, 22 जून 2010

बदलता वक्त

                 बदलता वक्त                 

बदलते वक्त ने
                     बदला हर नज़र को
काटों से भर दिया
                     मेरे इस चमन को
कि हर सुमन के हिस्से में
                    बस एक उदासी है
न समझ पाया वो फिजां को
                  क्यों इतना जज़्बाती है
जब जब है वो टुटा डाली से
                 हर सपना उसका चूर हुआ
मुरझाना ही है नसीब उसका
                ये उसको महसूस हुआ
मुरझाना ही है नसीब उसका
                ये उसको.....................!!


                                                                                    सु..मन 

शुक्रवार, 4 जून 2010

सुप्त जागृति

    सुप्त जागृति


जागने से गर सवेरा होता
इंसा का रूख कुछ और होता ;
         सुप्त जागृति को मिलती लय
         जीवन बन जाता संगीतमय ;
                न रोता वो कल का रोना
                सीख लेता आज में जीना ;
                       न सताती भविष्य की चिंता
                       दुख में पल पल न गिनता ;
                               यूं तो वो हर रोज ही जगता
                               अन्दर के चक्षु बन्द ही रखता ;
                                         देखता सिर्फ भूत और भविष्य
                                         वर्तमान का ना होता दृष्य ;
                                                 समझ को कर तालों में बन्द
                                                 इच्छाओं में हो जाता नज़रबन्द ;
                                                          ऐसे ही हर दिन होता सवेरा
                                                          भ्रम में होता खुशियों का डेरा ;
                                                                       न जाना वो सूर्य का सन्देश
                                                                      धूप और छाँव का समावेश !!

शुक्रवार, 21 मई 2010

संजोया सपना

अकसर ऐसा होता है कि सपने टूट जाया करते हैं पर इंसान जज़्बाती है ना.............. फिर से नई आस के साथ सपने बुनने लगता है टूटता है, बिखरता है पर सपने संजोना बन्द नहीं करता.............बस सपनों को हकीकत में बदलते देखना चाहता है.........


                                संजोया सपना


                                   संजोया हर सपना
                                                      पूरा कहां होता है ;
                                   फिर भी हर इंसान
                                                      इनमें खोया रहता है ;
                                   अकसर जब नींद में
                                                      सपनों का डेरा होता है ;
                                   सच होने की आस लिए
                                                      नया सवेरा होता है ;
                                   हर पल जब दिन का
                                                      रूख बदलता जाता है ;
                                   सपनों के जहाँ में
                                                     हकीकत का दौर आता है ;
                                   हर शाम गमगीन
                                                     रात अश्कों को पहरा होता है ;
                                   बहता जाता है हर सपना
                                                    जो दिल ने संजोया होता है !!

                                                                                                                                               सुमन ‘मीत’

बुधवार, 12 मई 2010

तुम्हें बदलना होगा !

                          तुम्हें बदलना होगा !




जीवन की राहें
        बहुत हैं पथरीली
तुम्हें गिर कर
        फिर संभलना होगा ।

                                        भ्रम की बाहें
                                               बहुत हैं हठीली
                                        छोड़ बन्धनों को
                                               कुछ कर गुजरना होगा ।

दुनिया की निगाहें
           बहुत हैं नुकीली
तुम्हें बचकर
           आगे बढ़ना होगा ।

                                        रिश्तों की हवाएँ
                                                बहुत हैं जकड़ीली
                                        छोड़ तृष्णा को
                                                मुक्त हो जाना होगा ।

ऐ ‘मन’
             तुम्हें बदलना होगा
                                     बदलना होगा
                                                      बदलना होगा !!




                                                              ...सुमन ‘मीत’...


                                                                 

रविवार, 9 मई 2010

अर्पित ‘सुमन’ ..... एक प्रयास

आज ये सफर 5 महिनों का होने को आया है जब कुछ लफ्ज़ मेरी

डायरी के पन्नों से इस ब्लॉग पर उभर आये थे । उस वक्त सच

कहूं तो ये सोचा न था कि ये सफर इतना सुखद होगा आप सभी

के साथ। इन बीते महिनों में आप सभी का भरपूर सहयोग मिला

और सुझाव भी। इतने दूर होकर भी हम सब जुड़े है एक डोर से ,

शब्दों की डोर से.......।

                                     आज अपना एक और ब्लॉग शुरू कर रही

हूँ अर्पित‘सुमन’http://arpitsuman.blogspot.com/ इस आशा के साथ

कि मेरे इस प्रयास में आप सभी बागवां बन कर सुमन की बगिया

को अपने स्पर्श से महक देते रहगें ।
                                                                                                                                                                                                          सुमन ‘मीत’



चन्द पंक्तियां लिखी हैं .............



                                                             जुश्तजू  



                                       कभी जिन आँखों में
                                                  
                                                 चाहत की जुश्तजू थी
                                     
                                      आज देखा तो जाना
                                                  
                                                  वो नज़र बदल गई.................

शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

अंतर्द्वन्द

                                 

                                            


                                      अन्दर जो पलता है , आँखों से बहता है ।

                           बेजुबान है मगर , फिर भी कुछ कहता है ।
                      
                                      नहीं रखता कोई बन्धन , पर जकड़े रखता है ।

                           मन की बातों को , खामोशी से तोलता रहता है ।
                      
                                      ये है ‘अंतर्द्वन्द’ , जो चुपचाप चलता रहता है !!

सोमवार, 19 अप्रैल 2010

स्वप्निल राह

जीवन की राहों में कई बार कदम कुछ ऐसी राह पकड़ लेते हैं जिसकी कोई मंजिल नहीं होती या यूं कहो कि मंजिल सपना बन जाती है और वो राह स्वप्निल ।






स्वप्निल राह

जीवन की सच्चाई से
अनभिज्ञ वो
बढ़ती जा रही थी
स्वप्निल रास्तों के गांव
लेकर विचारों की छांव
कदम पर आई ठोकर को
विश्वास के पत्ते से सहलाती
बस बढ़ती जा रही थी
बेखौफ वो जज़्बाती
मंजिल से दूरी
लगती अब कम थी
आँखें भी खुशी से
हो गई नम थी
पर.....
एक पल में मानो
सब कुछ बिखर गया
तिनका-तिनका कर घरौंदा
अब तो टूट गया
उसकी ये राह
सिर्फ स्वप्निल थी
जीवन की सच्चाई नहीं
मन की भटकन थी
ये जानती है वो
ये जानती है वो
कि स्वप्निल राहों की
दिशाएं नहीं होती
गर न होता
ये नाजुक मन
न होते अरमान
न ही आशाएं होती
न होते अरमान  
                  न ही आशाएं होती ...............




                                 सु..मन 


बुधवार, 14 अप्रैल 2010

कुम्भ स्नान..............आस्था

                                       



आज कुम्भ का अंतिम शाही स्नान है1लाखों लोग गंगा स्नान के लिये गए हैं1ऐसे में एक कथा याद आ रही है जो मेरे पिता जी सुनाया करते हैं जिसमें छिपे गूड़ रहस्य को हम लोग जान नहीं पाते हैं1कथा कुछ इस तरह है.......
एक बार हरिद्वार में कुम्भ का मेला लगा था लाखों लोग वहां जा रहे थे1उस समय शिव पार्वती भ्रमण करते हुए बहां से गुजर रहे थे तो पार्वती जी ने कहा –हे भोले नाथ,कहते हैं की कुम्भ में सभी पाप धुल जाते हैं तो क्या ये सभी प्राणी पाप से मुक्त हो आपके धाम पहुंच जाएगें1शिव बोले-पार्वती ये पृथ्वी की माया बड़ी अजीब है इसे विषय को छोड़ दो 1परंतु पार्वती जी के हठ करने पर शिव पार्वती पृथ्वी लोक आ गए और एक दम्पती के रूप में हरिद्वार जाने वाले रास्ते में रुक गए1वहां पर दलदल थी इंसान के रूप में शिवजी उस दलदल में फंस गए और पार्वती किनारे पर खड़े हो कर आने जाने वालों से अपने पति को बाहर निकालने के लिये प्रार्थना करने लगी1जब लोग शिवजी को बाहर निकालने में मदद करने लगे तो पार्वती ने कहा- वही व्यक्ति हमारी मदद करें जिसने कोई पाप न किया हो1 ये सुनकर लोग पीछे हट जाते और कहते कि क्या कोई ऐसा भी इंसान होगा जिसने कोई पाप न किया होगा भूले से सही कुछ बूरे कर्म तो हो जाते हैं 1 ऐसे ही लोग आते जाते रहे 1अंत में एक डाकू वहां से गुजरा जो अभी अभी कुम्भ से लौटा था पार्वती जी ने उसे मदद करने को कहा साथ में अपनी शर्त भी बता दी तो डाकू ने कहा –यूं तो मैने अपने जीवन में अनेक पाप किये हैं पर गंगा में डुबकी लगाने से मेरे तन और मन दोनों की शुद्धि हो गई है उसके बाद मैने अब तक कोई पाप नहीं किया है और झट से वह शिवजी की मदद करने लगा उसी समय शिवजी अपने रूप में प्रकट हो गए और कहा- हे पार्वती, कुम्भ में तो अनगिनत लोगों ने स्नान किया पर सिर्फ यही एक मनुष्य मेरे धाम आयेगा 1यह पूरे विश्वास और भाव से गया था तभी तो इसके मन में कोई दुविधा नहीं थी1 चाहे जीवन में इसने अनेक बूरे कर्म किये हैं पर इस तरह का समर्पण ,श्रद्धा बाकी लोगों मे नहीं था वो स्नान करके अपने शरीर को तो धो आए थे पर मन अभी भी मलिन था1उस डाकू को आशीर्वाद देकर वे अपने धाम लौट गए 1

अंत में बस यही कहूंगी –मन चंगा तो घर विच गंगा