शनिवार, 27 फ़रवरी 2010

होली के रंग में

होली के रंग में



मस्ती की आई है बयार
आया है रंगों का त्यौहार ,

भूला कर सब बैर और भरम
आओ झूम के मना लें ये जशन ,

पोत लें खुद पे प्रीत की स्याही
छोड़ जात का बन्धन बनें हमराही ,

सब तरफ फैला दें अमन का गुलाल
जीवन बने बसंत आए खुशियों की बहार ,



रंग जायें इस कदर होली के रंग में
ज्यूं राधा रंगी थी श्याम संग मधुवन में !!




सु..मन 

बुधवार, 24 फ़रवरी 2010

अनकहे जज़्बात

अनकहे जज़्बात


एक दिन यूं ही
सामना हुआ
अपनी ‘कृति’ से
विस्मित सी वो
देख कर मुझे
कहने लगी.....
क्या सबब है – 2
जो तुम मेरी
इतनी बांह थामे चलते हो ,
अपने जज़्बातों से मुझे
इतना डुबोए रखते हो 1
यूं तो हैं सब अपने
ये कहते रहते हो ,
क्यों अपने जज़्बातों से
उनको दूर रखते हो 1
इस दुनिया की भीड़ में
तन्हा फिरते रहते हो ,
अकसर तन्हाइयों में
मुझसे आकर मिलते हो 1
चकित हूँ मै ये सोच कर
क्या होता तुम्हारा हाल ,
गर न कह पाते तुम
मुझसे भी अपने जज़्बात 1
सुनकर विचार अपनी ‘कृति’ के
मैनें कहा ....
यूं तो सब मेरे हैं जज़्बाती
उनसे दूरी मुझको है तड़पाती ,
जज़्बात तो मैने बहुत से
उनके साथ बांटे हैं ,
फिर भी जीवन में
फूल के साथ कांटे हैं 1
चाहकर भी कुछ जज़्बात
अनकहे से रहते हैं ,
दिल के किसी कोने में
बस दबे रह्ते हैं 1
तब मेरे ख़यालों में
तुम दस्तक देती हो ,
मेरे आगोश में आ जाओ
ये कहती रहती हो 1
के तुमने हैं जाने
मेरे दिल के ख़यालात ,
और कह पाई मैं तुमसे
अपने ‘अनकहे जज़्बात’ !!


सु..मन 


शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2010

जीवन के पल

               जीवन के पल

हर गुजरा पल
                          एक याद छोड़ जाता है ,
       उस याद के भरोसे
                           एक आस छोड़ जाता है ,
        आस के बहकावे में
                         एक सांस छोड़ जाता है ,
         सांस की परछाई में
                          एक घुटन छोड़ जाता है ,
         घुटन में जकड़ कर
                          एक जीवन छोड़ जाता है ,
                 जीवन को जीने के लिये
                             एक इंसान छोड़ जाता है !!




सु..मन 

शनिवार, 13 फ़रवरी 2010

आगमन

                                   कभी     कहीं
                                            साँझ        सवेरे
                                   जब आती हो तुम
                                            तसव्वुर   में    मेरे ;
                                   सहेज कर रख लेती हूँ
                                            दामन    में    अपने
                                   ज्यूं   आँखों   में
                                            समेट लेते हैं सपने ;
                                   न होती  आने की
                                            किसी को भी आहट
                                   सिर्फ खाली पन्नों पर
                                            होती है कुछ लिखावट !!



                                                      सु.मन 

मंगलवार, 9 फ़रवरी 2010

न जाने क्यों ?

                                                 मेरी प्रथम रचना (1993)

                                         न जाने क्यों ? 
                                         मुझे
                                         अपने चारों ओर
                                         लग रहा है
                                         एक
                                         शून्य सा बिखरा
                                         मानो
                                         एक हलचल के बाद
                                         ठहर गया हो 
                                         जीवन जैसे.......
                                         न जाने क्यों ?
                                         लग रहा है
                                         जैसे
                                         सूर्य जा रहा है
                                         अन्धेरे में
                                         अपनी छवि बनाकर
                                         करने कहीं और
                                         उजाला
                                         खबर नहीं
                                         आएगा भी वह
                                         उजाला करने यहाँ
                                         करके अन्धेरा
                                         जो चला गया है
                                         कहीं और जहाँ ......
                                         फिर भी
                                         न जाने क्यों ?
                                         दिल में
                                         एतबार है
                                         उसका इंतजार है
                                         लगता है
                                         वह आएगा
                                         रोशनी के साथ
                                         हमारे जीवन को
                                         फिर से जगमगाएगा !!




                                                                                 सु..मन 

बुधवार, 3 फ़रवरी 2010

यूं ही कभी !

कुछ पल दोस्ती के नाम

यूं ही कभी

इन बन्द आखों में

आती है सामने

कुछ बीती यादें

कुछ जीये हुए पल;

वो हंसना वो रोना

उठकर रातों को

बातें सुनाना

याद है आता

अब इन दिनों में

जीकर जो गुजर गया

बीते हुए दिनों में;

हर पल दिल में

कसक सी उठती है

काश होते पास वो

जिनसे अब दूरी है;

हर घड़ी मन में

ख़याल ये आता है

गर होता है बिछड़ना

खुदा क्यों मिलाता है;

हर पल उनकी यादों में

अब हम तड़पते हैं

पर शायद सभी मिलकर

यूं ही बिछड़ते हैं...............!!


सु..मन