शनिवार, 27 फ़रवरी 2010

होली के रंग में

होली के रंग में



मस्ती की आई है बयार
आया है रंगों का त्यौहार ,

भूला कर सब बैर और भरम
आओ झूम के मना लें ये जशन ,

पोत लें खुद पे प्रीत की स्याही
छोड़ जात का बन्धन बनें हमराही ,

सब तरफ फैला दें अमन का गुलाल
जीवन बने बसंत आए खुशियों की बहार ,



रंग जायें इस कदर होली के रंग में
ज्यूं राधा रंगी थी श्याम संग मधुवन में !!




सु..मन 

8 टिप्‍पणियां:

  1. सुमन जी, होली के अवसर पर बहुत सुन्दर रचना---हर्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सब तरफ़ फैला दें अम्न का गुलाल
    जीवन बने बसंत आए खुशियों की बहार

    आपकी ये पावन भावनाएं फलीभूत हों..
    इन्हीं कामनाओं के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुमन जी ,
    अच्छा प्रयास है आपका ....स्वागत है ....... !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी और सच्ची सोच लिए सार्थक प्रयास - हार्दिक शुभकामनाएं इस आशा और विश्वास के साथ कि होली ने आपकी झोली में ख़ुशी के रंग अवश्य भरे होंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  6. रंगीन रचना और उतनी ही रंगीन प्रस्तुती. ब्लाग होली

    उत्तर देंहटाएं
  7. Sumanji,
    ham sabako rangon se sazi ek sandesh deti hui is pyari si sundar rachana ke liye bahut bahut badhai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  8. pehli baar aapke blogs par aaya ....aap bahut sunder likhti hai ...har ek rachna aapki waqai me ek khasiyat liye hue hai ....hamare pass aapki tareef ke liye alfaaz nahi hai ...waqt mile to aap hamare blogs par zarur tashreeef laaye ....
    best rgrds
    aleem azmi

    http://aleemazmi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं