रविवार, 9 मई 2010

अर्पित ‘सुमन’ ..... एक प्रयास

आज ये सफर 5 महिनों का होने को आया है जब कुछ लफ्ज़ मेरी

डायरी के पन्नों से इस ब्लॉग पर उभर आये थे । उस वक्त सच

कहूं तो ये सोचा न था कि ये सफर इतना सुखद होगा आप सभी

के साथ। इन बीते महिनों में आप सभी का भरपूर सहयोग मिला

और सुझाव भी। इतने दूर होकर भी हम सब जुड़े है एक डोर से ,

शब्दों की डोर से.......।

                                     आज अपना एक और ब्लॉग शुरू कर रही

हूँ अर्पित‘सुमन’http://arpitsuman.blogspot.com/ इस आशा के साथ

कि मेरे इस प्रयास में आप सभी बागवां बन कर सुमन की बगिया

को अपने स्पर्श से महक देते रहगें ।
                                                                                                                                                                                                          सुमन ‘मीत’



चन्द पंक्तियां लिखी हैं .............



                                                             जुश्तजू  



                                       कभी जिन आँखों में
                                                  
                                                 चाहत की जुश्तजू थी
                                     
                                      आज देखा तो जाना
                                                  
                                                  वो नज़र बदल गई.................

15 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! क्या बात है ! कमाल की पंक्तिया और भाव है! बहुत ही कम शब्दों में गहरी बात!

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वागत है
    नए ब्लाग पर क्या पोस्ट किया है अभी देखता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. yahi hota hai pyaar ke naam par aajkal.. sirf chhalawa. ab to main bhi wrong number ho gaya..
    naye blog ka swagat hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब.....नए ब्लॉग के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. naya blog shuru karne par badhai aur shubhkamnayen ! aap ne khubsurat alfazon se aagaj kiya hai, lihaza anjaam shandar hoga.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छा लिखा है ... नये ब्लॉग को देखता हूँ ... बहुत शुभकामनाएँ .....

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut achcha ....khair mukdam hai aapka...
    aap is blog world ki ek hasti hai aapka
    sawagat hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सचमुच इन नजरों को क्या हो गया..मिलती है तो बदल देती है ..बदलती है तो मिलती नहीं..अच्छी बात

    उत्तर देंहटाएं
  9. नये ब्लाग के लिये बधाई। ब्लाग के आरंभ मे जो चार पंक्तियां आपने लिखी है वो भाव पक्छ से मजबूत हैं लेकिन (जुश्तज़ु) जो आपने लिखा है वह वास्तव में (जुस्तजू) है, सुधार लें।
    एक बार फिर से बधाई।

    उत्तर देंहटाएं