बुधवार, 12 मई 2010

तुम्हें बदलना होगा !

                          तुम्हें बदलना होगा !




जीवन की राहें
        बहुत हैं पथरीली
तुम्हें गिर कर
        फिर संभलना होगा ।

                                        भ्रम की बाहें
                                               बहुत हैं हठीली
                                        छोड़ बन्धनों को
                                               कुछ कर गुजरना होगा ।

दुनिया की निगाहें
           बहुत हैं नुकीली
तुम्हें बचकर
           आगे बढ़ना होगा ।

                                        रिश्तों की हवाएँ
                                                बहुत हैं जकड़ीली
                                        छोड़ तृष्णा को
                                                मुक्त हो जाना होगा ।

ऐ ‘मन’
             तुम्हें बदलना होगा
                                     बदलना होगा
                                                      बदलना होगा !!




                                                              ...सुमन ‘मीत’...


                                                                 

23 टिप्‍पणियां:

  1. Is badlaavmein hi jeeva hai ... Geeta mein Shri krishn ne bhi kaha hai ... badlaav/parivartan shrishti ka niyam hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना है, नोकीली की जगह नुकीली कर ले तो ठीक रहेगा!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. निलेश जी
    सुझाव के लिये शुक्रिया । मैने बदलाव कर दिया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. रिश्तों की हवाएं बहुत जकड़ीली , छोड़ तृष्णा को मुक्त हो जाना होगा....पर ऐ मन कहाँ बदलता है...???

    मन को छू गयी ये रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुनिया की निगाहें बहुत हैं नुकीली
    तुम्हें बचकर आगे बढ़ना होगा ।
    बहुत उम्दा....प्रभावशाली.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिल्कुल...बदलना होगा.बेहतरीन!!



    एक विनम्र अपील:

    कृपया किसी के प्रति कोई गलत धारणा न बनायें.

    विवादकर्ता की कुछ मजबूरियाँ होंगी, उन्हें क्षमा करते हुए अपने आसपास उठ रहे विवादों को नजर अंदाज कर निस्वार्थ हिन्दी की सेवा करते रहें, यही समय की मांग है.

    हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार में आपका योगदान अनुकरणीय है, साधुवाद एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  7. sahi kaha suman ji man ko ab badalna hoga...sandeshprad rachna ke liye dhanyawaad...zindagi ki mushkil raahein tay karne ke liye soch ka badalna bahut zaruri hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. परिवर्तन संसार का नियम है.. या तो दुनिया बदलिए या बदल जाइए.. बढ़िया कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर भाव :)

    टाइम मशीन से यात्रा करने के लिए.... इस लिंक पर जाएँ :
    http://my2010ideas.blogspot.com/2010/05/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन को इस प्रकार कटघरे में खड़ा देख अच्छा लगता है । जब हठ पकड़ लिया है तो बदल भी देंगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी कविता. दुनिया की निगाहें है बहुत नुकीली . तुम्हें बचकर निकलना होगा ये पंक्तियाँ छु गई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. -----------------------------------
    mere blog par meri nayi kavita,
    हाँ मुसलमान हूँ मैं.....
    jaroor aayein...
    aapki pratikriya ka intzaar rahega...
    regards..
    http://i555.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं