शुक्रवार, 4 जून 2010

सुप्त जागृति

    सुप्त जागृति


जागने से गर सवेरा होता
इंसा का रूख कुछ और होता ;
         सुप्त जागृति को मिलती लय
         जीवन बन जाता संगीतमय ;
                न रोता वो कल का रोना
                सीख लेता आज में जीना ;
                       न सताती भविष्य की चिंता
                       दुख में पल पल न गिनता ;
                               यूं तो वो हर रोज ही जगता
                               अन्दर के चक्षु बन्द ही रखता ;
                                         देखता सिर्फ भूत और भविष्य
                                         वर्तमान का ना होता दृष्य ;
                                                 समझ को कर तालों में बन्द
                                                 इच्छाओं में हो जाता नज़रबन्द ;
                                                          ऐसे ही हर दिन होता सवेरा
                                                          भ्रम में होता खुशियों का डेरा ;
                                                                       न जाना वो सूर्य का सन्देश
                                                                      धूप और छाँव का समावेश !!

17 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत विचारों से रची अच्छी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह रचना कुछ सोचने के लिए मजबूर तो करती है। अच्छी रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी रचना
    कलात्मक टंकण चार चाँद लगा रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक सकारात्मक भाव की रचना सुमन जी। बहुत पसन्द आयी। अचानक मुँ से निकला वाह वाह।।

    जो बीता कल क्या होगा कल
    है इस कारण तू व्यर्थ विकल
    आज अगर तू सफल बना ले
    आज सफल तो जनम सफल

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut khub



    फिर से प्रशंसनीय रचना - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut khub



    फिर से प्रशंसनीय रचना - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच है सवेरा तो महसूस करने से होता है ... दिल में उमंग भरने से होता है ... अच्छी रचना है ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. man ki aankho ka jaran hii vastavik jagaran hai....sahi kaha aapne..sundar prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रकृति और भावनाओं का अनोखा संगम्। एक अच्छी आशावादी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जागने से गर सवेरा होता.....
    से लेकर...
    धूप और छांओ का समावेश...
    तक....
    जिस प्रकार आपने भावनाओं को शब्दों में ढाला है...
    वो बहुत खास बन गया है....बधाई

    उत्तर देंहटाएं