बुधवार, 28 जुलाई 2010

तुम आए हो................

कुछ दिनों से मेघ कुछ ज्यादा ही प्रसन्न दिखाई दे रहे हैं ........बस निर्झर बहते ही जा रहे हैं........... साथ में मतवाली धुन्ध जब अलमस्त हिरनी सी चाल में चलती है तो मन मुग्ध हो जाता है । रोज सुबह जब भी ऑफिस के लिये निकलती हूँ बारिश की हल्की हल्की बून्दें मन में स्पन्दन सा करने लगती है पहाड़ों पर मचलते फाहों के संग झूमने को मन करता है और मन गाने लगता है कुछ इस तरह............
घर की छत से कुछ यूं दिखते हैं नज़ारे
रास्ता कुछ यूं कटता है


तुम आए हो................

तुम आए हो मेरे सामने इक प्रीत की तरह
आओ गुनगुना लूं तुम्हें इक गीत की तरह

छा रही है सब तरफ आलम-ए-मदहोशी
कूचा-2 महकने लगा है पत्तों में हो रही सरगोशी


तुम आए हो मेरे सामने इक पैगाम की तरह
आओ पी लूं तुम्हें इक जाम की तरह

फिज़ाओं में लरजने लगा है इक तराना
गाने लगे हैं भंवरे कलियों ने सीखा है इतराना

तुम आए हो मेरे सामने जुस्तजू की तरह
आओ बिखेर दूं तुम्हें इक खुशबू की तरह

छा गये हो इन पर्वतों पे तुम यूं घनेरे
दरिया तूफानी कह रहा तुम हो मीत मेरे

तुम आए हो मेरे सामने इकरार की तरह
आओ अपना लूं तुम्हें इक प्यार की तरह
                          आओ अपना लूं तुम्हें........................!!
                                                                 
                                                                       सुमन ‘मीत’

बुधवार, 21 जुलाई 2010

इक कतरा जिन्दगी का.........










इक कतरा जिन्दगी का.........



रोज शाम यूं ही रात में बदलती है
                            पर हर रात अलग होती है
कभी आँखें ख्वाबों से बन्द रहती हैं
                           कभी तन्हा ही नम रहती हैं !!

                                                                                        सु..मन 

सोमवार, 12 जुलाई 2010

भूली याद




















बढ़ गया दायरा जब तन्हाई का या रब
तू भी बदल गया एक बेवफा की तरह ;

डाला था हमने खुद को तेरी पनाह में
ठूकरा दिया तूने भी एक इंसान की तरह ;

क्या करें शिकवा क्या शिकायत किसी से
तू तन्हा छोड गया एक मुसाफिर की तरह ;

रूह-ए-सकूं मांगा था तेरी निगेहबानी में
दगा दिया तूने भी एक अजनबी की तरह ;

अब तो है शब-ए-गम , तड़प और टूटे ख़ाब
तू आ जाता है कभी सामने एक याद की तरह !!

              ................................
                                                             सु..मन 




अर्पित 'सुमन'--------नई चेतना

शनिवार, 3 जुलाई 2010

बरसात

बरसात जब होले होले दस्तक देने लगती है तो इस धरा का जर्रा जर्रा महक उठता है यूं लगता है कि नवजीवन का संचार हुआ हो ।मन मचल उठता है कुछ लिखने को.........

बरसात



घना फैला कोहरा
कज़रारी सी रात
भीगे हुए बादल लेकर
फिर आई है ‘बरसात’;


   अनछुई सी कली है मह्की
   बारिश की बूंद उसपे है चहकी
   भंवरा है करता उसपे गुंजन
     ये जहाँ जैसे बन गया है मधुवन;


     रस की फुहार से तृप्त हुआ मन
     उमंग से जैसे भर गया हो जीवन
    ’बरसात’ है ये इस कदर सुहानी
          जिंदगी जिससे हो गई है रूमानी !!

                                                                                      
                                                                                                     सुमन 'मीत'