शनिवार, 7 अगस्त 2010

मेरा आसमां.............

आजकल चाँद बादलों के संग आँख मिचोली करता रहता है और मुझे मेरा आसमां कुछ यूं नजर आता है.........................




                                             मेरा आसमां
                             
                              आज मेरा आसमां धुंधला सा है
                             
                              सितारों के बगैर चाँद सूना सा है;
                              
                              बादलों की परछाई जब उसे घेर लेती
                             
                              गुमसुम सी चाँदनी जैसे मुँह फेर लेती;
                             
                              बादलों ने भी रूख पे नकाब है ओढ़ा
                             
                              छलक पड़ेगा नीर जब सरकेगा वो थोड़ा;
                             
                              तब छंटेगी धुंध मेरे आसमां की
                             
                              निखर आयेगी चाँदनी इक मेहरबां सी ..........!!

                                                                                             सु..मन 

15 टिप्‍पणियां:

  1. निखर आयेगी चांदनी मेहेरबाँ सी ।
    कितनी सुंदर अबिव्यक्ती है । बधाई सुमन जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. निखर आयेगी चांदनी मेहेरबाँ सी




    कशमकश है...लेकिन सुन्दर संवाद !
    समय हो तो पढ़ें
    हिरोशीमा की बरसी पर एक रिक्शा चालक
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_06.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत उम्दा!! अच्छा लगा पढ़ कर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ...छंटेगी धुंध मेरे आसमां की
    निखर आयेगी चाँदनी इक मेहरबां सी .....
    सकारात्मक....
    क्या खूब कहा है.....वाह

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुमन जी...

    चाँद छुपा होता बादल में...
    या फिर हो धुंधला आकाश...
    छानकर भी आता अवनी पर...
    चांदनी का मद्धम प्रकाश...

    सुन्दर कविता...

    दीपक....

    उत्तर देंहटाएं
  6. जितना सुन्दर चित्र उतने ही मन मोहक शब्द...बहुत अच्छी रचना...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाँदनी के निखार जाने से जीवन की शुरुआत हो जाती है .. कायनात चल पड़ती है प्यार की ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. suman ji bahut dinon se aapase baat karana chahati thi lekin samay nahin milata hai aapako hamesha padhati hun par tipapani karanaa nahi ho pata aaj to soch liyaa ki jarur bhejugin bahut hi sundar vichaar hai aapake or abhivakti bhi kamaal hai -mamta

    उत्तर देंहटाएं