सोमवार, 29 नवंबर 2010

इक क़तरा जिंदगी का................





















मैनें बोया था एक बीज तेरी याद का
कुछ दिन हुए एक कांटा उभर आया है

उससे जख़्म-ए-दिल को सिल रही हूँ ।

                                                                                  सु..मन 

शनिवार, 20 नवंबर 2010

उसका गम

क्यों वो चेहरा धुन्धला सा


             नज़र आने लगा है हमें


अपना होते हुए भी


            बेगाना लगने लगा है हमें


क्यों बैठे ही बैठे


            कहीं   डूब   जाते    हैं    हम


ना होती किसी की चाहत


            ना    किसी    का      गम

बस एक झलक को उसकी


           तरस    जाते    हैं    हम


ये सोचते ही सोचते


          उसके गम डूब जाते हैं हम.............


 
                                                                                                                     सु..मन 

सोमवार, 1 नवंबर 2010

जीवन राग

कुछ दिनों के बाद इस ब्लॉग को शुरू किये एक साल हो जायेगा ।जब ये सफर शुरू किया तो सोचा भी न था कि आप लोगों का इतना प्यार मिलेगा ......आज न जाने क्यूँ ब्लॉग की अपनी पहली कविता आप सबके साथ साझा करना चाहती हूँ .........

जीवन राग


जीवन राग की तान मस्तानी

समझे न ये मन अभिमानी ;


बंधता नित नव बन्धन में
करता क्रंदन फिर मन ही मन में ;


गिरता संभलता चोट खाता
बावरा मन चलता ही जाता ;


जिस्म से ये रूह के तार
कर देते जब मन को लाचार ;


होता तब इच्छाओं का अर्पण
मन पर ज्यूँ यथार्थ का पदार्पण ;


छंट जाता स्वप्निल कोहरा
दिखता जीवन का स्वरूप दोहरा ;


स्मरण है आती वो तान मस्तानी
न समझा था जिसे ये मन अभिमानी !!



                                                                                 सु..मन