सोमवार, 22 मार्च 2010

क्यों ?







                                                                  

        





 क्यों ?



क्यों   न सोचना चाहते हुए भी
         सोचते जाते हैं लोग 
         दुनियां की भीड़ में
         तन्हाइयों में डूब जाते हैं लोग


क्यों   न मुस्कराना चाहते हुए भी
         छलकती आँखों से मुस्कराते हैं लोग
         गमों को छुपाकर
         अश्कों को पीये जाते हैं लोग


क्यों   न जीने की चाह होकर भी
         जिन्दगी जीये जाते हैं लोग
         सफर की मंजिल पर
         तन्हा रह जाते हैं लोग............?