शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

अंतर्द्वन्द

                                 

                                            


                                      अन्दर जो पलता है , आँखों से बहता है ।

                           बेजुबान है मगर , फिर भी कुछ कहता है ।
                      
                                      नहीं रखता कोई बन्धन , पर जकड़े रखता है ।

                           मन की बातों को , खामोशी से तोलता रहता है ।
                      
                                      ये है ‘अंतर्द्वन्द’ , जो चुपचाप चलता रहता है !!