शुक्रवार, 21 मई 2010

संजोया सपना

अकसर ऐसा होता है कि सपने टूट जाया करते हैं पर इंसान जज़्बाती है ना.............. फिर से नई आस के साथ सपने बुनने लगता है टूटता है, बिखरता है पर सपने संजोना बन्द नहीं करता.............बस सपनों को हकीकत में बदलते देखना चाहता है.........


                                संजोया सपना


                                   संजोया हर सपना
                                                      पूरा कहां होता है ;
                                   फिर भी हर इंसान
                                                      इनमें खोया रहता है ;
                                   अकसर जब नींद में
                                                      सपनों का डेरा होता है ;
                                   सच होने की आस लिए
                                                      नया सवेरा होता है ;
                                   हर पल जब दिन का
                                                      रूख बदलता जाता है ;
                                   सपनों के जहाँ में
                                                     हकीकत का दौर आता है ;
                                   हर शाम गमगीन
                                                     रात अश्कों को पहरा होता है ;
                                   बहता जाता है हर सपना
                                                    जो दिल ने संजोया होता है !!

                                                                                                                                               सुमन ‘मीत’