शुक्रवार, 4 जून 2010

सुप्त जागृति

    सुप्त जागृति


जागने से गर सवेरा होता
इंसा का रूख कुछ और होता ;
         सुप्त जागृति को मिलती लय
         जीवन बन जाता संगीतमय ;
                न रोता वो कल का रोना
                सीख लेता आज में जीना ;
                       न सताती भविष्य की चिंता
                       दुख में पल पल न गिनता ;
                               यूं तो वो हर रोज ही जगता
                               अन्दर के चक्षु बन्द ही रखता ;
                                         देखता सिर्फ भूत और भविष्य
                                         वर्तमान का ना होता दृष्य ;
                                                 समझ को कर तालों में बन्द
                                                 इच्छाओं में हो जाता नज़रबन्द ;
                                                          ऐसे ही हर दिन होता सवेरा
                                                          भ्रम में होता खुशियों का डेरा ;
                                                                       न जाना वो सूर्य का सन्देश
                                                                      धूप और छाँव का समावेश !!