मंगलवार, 22 जून 2010

बदलता वक्त

                 बदलता वक्त                 

बदलते वक्त ने
                     बदला हर नज़र को
काटों से भर दिया
                     मेरे इस चमन को
कि हर सुमन के हिस्से में
                    बस एक उदासी है
न समझ पाया वो फिजां को
                  क्यों इतना जज़्बाती है
जब जब है वो टुटा डाली से
                 हर सपना उसका चूर हुआ
मुरझाना ही है नसीब उसका
                ये उसको महसूस हुआ
मुरझाना ही है नसीब उसका
                ये उसको.....................!!


                                                                                    सु..मन