शनिवार, 3 जुलाई 2010

बरसात

बरसात जब होले होले दस्तक देने लगती है तो इस धरा का जर्रा जर्रा महक उठता है यूं लगता है कि नवजीवन का संचार हुआ हो ।मन मचल उठता है कुछ लिखने को.........

बरसात



घना फैला कोहरा
कज़रारी सी रात
भीगे हुए बादल लेकर
फिर आई है ‘बरसात’;


   अनछुई सी कली है मह्की
   बारिश की बूंद उसपे है चहकी
   भंवरा है करता उसपे गुंजन
     ये जहाँ जैसे बन गया है मधुवन;


     रस की फुहार से तृप्त हुआ मन
     उमंग से जैसे भर गया हो जीवन
    ’बरसात’ है ये इस कदर सुहानी
          जिंदगी जिससे हो गई है रूमानी !!

                                                                                      
                                                                                                     सुमन 'मीत'