बुधवार, 21 जुलाई 2010

इक कतरा जिन्दगी का.........










इक कतरा जिन्दगी का.........



रोज शाम यूं ही रात में बदलती है
                            पर हर रात अलग होती है
कभी आँखें ख्वाबों से बन्द रहती हैं
                           कभी तन्हा ही नम रहती हैं !!

                                                                                        सु..मन