सोमवार, 29 नवंबर 2010

इक क़तरा जिंदगी का................





















मैनें बोया था एक बीज तेरी याद का
कुछ दिन हुए एक कांटा उभर आया है

उससे जख़्म-ए-दिल को सिल रही हूँ ।

                                                                                  सु..मन