शुक्रवार, 3 जून 2011

कभी-कभी सोचती हूँ...........






















जाने क्या है जाने क्या नहीं

बहुत है मगर फिर भी कुछ नहीं

तुम हो मैं हूँ और ये धरा

फिर भी जी है भरा भरा.........


कभी जो सोचूँ  तो ये पाऊँ

मन है बावरा कैसे समझाऊँ

कि न मैं हूँ न हो तुम

बस कुछ है तन्हा सा गुम.......................


                                                      
                                                                    सु..मन 

20 टिप्‍पणियां:

  1. उदास मन के भाव ...बहुत सुन्दरता से व्यक्त किये हैं ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उहापोह की स्थिति ..सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन के अंतर्द्वंद की सुन्दर अभिव्यक्ति सुमन जी.
    सादर
    श्यामल सुमन
    +919955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. अति सुंदर अभिव्यक्ति सुमन जी की आपने

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ तो है तन्‍हा सा गुम...इसी में मजा हे।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कशमकश की सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुमन जी, मनोभाव को अच्छे शब्दों में पेश किया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन वाकई बावरा है

    सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह सुमन जी, क्या बेहतरीन गीत है ... मैंने तो गुनगुना भी लिया ... !

    उत्तर देंहटाएं