गुरुवार, 27 जनवरी 2011

जिन्दगी–ए-उल्फत




















सबब है आखिर क्या
        
           ये किसने जाना है ;

जिन्दगी को यहाँ
       
           किसने अब तक जाना है ;

जिन्दगीए-उल्फत में यहाँ
        
           क्या किसी ने पाया है ;

दर्द-ए-दिल का ऐ सुमन
       
           न कोई यहाँ सरमाया है !!


सु..मन