बुधवार, 16 फ़रवरी 2011

इक क़तरा जिन्दगी का...



    तू दूर रह कर भी मेरे पास है

  जाने कैसा ये तेरा एहसास है

बावरा मन ये कहता है मेरा

     तू हमनवा हमखयाल है मेरा !!

                       

                                                                              सु..मन