शनिवार, 14 मई 2011

वो पल



वो पल बहुत खास थे

जब हम साथ साथ थे

दो जिस्म एक जान थे

इक दूजे का अरमान थे





सुबह की सुगबुगाहट थी

होंठों पर मुस्कराहट थी

अहसास की कलियाँ थी

खुशबू से भरी गलियाँ थी




रुह को बहुत सुकून था

बस प्यार का जुनून था

मेरे हाथों में तेरा हाथ था

हर पल बहुत खास था.....

         हर पल बहुत खास था..... !!
                             
                                                                 


                                                                      सुमन मीत