मंगलवार, 1 मई 2012

इंसान ओढ़े है नकाब
















आज चारों ओर
देखने को मिलते हैं
नकाब ओढ़े इंसान |

अक्सर 
फाईलों के ढेर में
अपने सर को छुपाए
दिखाई देते हैं जो
निर्बल असहाय से
काम के बोझ तले दबे |

पर स्वत: ही
बदल जाता है
उनका स्वरूप
ज्यूँ ही
मेज के नीचे से
सुनाई देने लगती है
उनको
हरे कागजों की सरसराहट |

तब
बदल जाता है
उनका चेहरा
और ओढ़ लेता है
इक नकाब
आँखों में
आ जाती है
एक चमक
धीरे –धीरे
खिसकने लगता है
उनके मेज पर से
फाईलों का ढेर...!!


सु-मन  

16 टिप्‍पणियां:

  1. सब हरे काग़ज़ों की महिमा है। सारा तंत्र उसका शिकार है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा आपने, कागजों की गतिशीलता का भेद भला कहाँ छिपा है।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. कड़वी सच्चाई कों शब्द दे दिये ...
    हर कोई बस नोटों की भाषा समझना चाहता है ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. Ek behtareen satya.. naqaab aaj har insaan ke liye jaroori bhi hai kyonki asal chehre se koi pahchanta kahan hai...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं