सोमवार, 24 दिसंबर 2012

आखिर कब तक ???


कब तक लूटती रहेगी
रोज अस्मत सरे बाज़ार
कब तक यूँ एक बेटी  
रोज बेआबरू की जायेगी |

कब तक चुकानी है कीमत
उसको एक लड़की होने की
कब तक एक निर्दोष पर
यूँ अंगुली उठाई जायेगी |

कब तक शोषित होगी नारी
इस सभ्य संकीर्ण समाज में
कब तक उसके अरमानो की   
यूँ रोज चिता जलाई जायेगी |

कब तक ..आखिर कब तक ???



सु-मन 

30 टिप्‍पणियां:

  1. यही जबाब मांग रहा है सारा देश...आहत हुआ...बेबस और लाचार!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तश्तरी जी ..कितनी लाचारी है ...कोई जवाब नहीं मिला ..सदियों से यही होता आया है ..नारी यूँ ही शोषित होती आई है ...

      हटाएं
  2. जब तक नारी खुद अपने सम्मान के लिए स्वयं आत्मरक्षा करना शुरू नहीं करती, जब तक खुद की सुरक्षा के लिए दूसरों का सहारा लेना या दूसरों का मुंह ताकना नहीं छोड़ती तब तक यही होता आया है और यही होता रहेगा क्यूंकि महाभारत काल में तो फिर भी द्रोपदी कि लाज बचाने श्री कृष्ण आए थे मगर वो सत युग था और यह कलयुग है। यहाँ कोई नहीं आने वाला किसी के लिए जो करना है खुद करना है। वो कहते है ना,

    खुद ही को कर बुलंद इतना कि
    खुदा बंदे से खुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ठीक कहा पल्लवी ...पर अत्याचार के खिलाफ उठी आवाज को किस तरह दबा दिया जाता है ..ये आज के हालत देख कर समझा जा सकता है ....

      हटाएं
  3. जब तक पलटकर करारा जवाब नहीं दिया जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आम जनता की आवाज को कैसे दबा दिया जाता है ये आप देख रहे हैं ...

      हटाएं
  4. उम्मीद है अपने जीवनकाल में ही बदलाव की बयार देखूंगा. जड़ से बदलाव की जरूरत है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उम्मीद तो है पर ...हम भी इसी उम्मीद में बैठे हैं

      हटाएं
  5. I wish I had the answer...But I can start with myself with a promise to respect women.
    And appreciating your painful piece....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. U R right Hemant ...when every person took this kind of promise...new begining start with new thinking ...I m egerly waiting for that begining..

      हटाएं
  6. ..यही सब हो रहा है...लेकिन इसका अंत निश्चत है...पर कब?..सवाल अभी सवाल ही है!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हांजी ..और इन सवालों का जवाब आखिर कब मिलेगा कोई निश्चित नही ...

      हटाएं
  7. सुमन जी इसी कब तक का जवाब हम सब चाहते हैं क्यूंकि अब ये कब तक एक हद तक बढ़ चुका है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ अरुण इस हद तक बढ़ चुका है कि मानव दानव बन गया है ...

      हटाएं
  8. आँख नम है
    न्‍याय की माँग में
    जुल्‍म देख

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद खूबसूरती से एहसासों को शब्दों में ढाला है सुमन जी... वैसे जब तक लोगो की पितृ सत्तात्मक सोच में परिवर्तन नहीं आएगा.. हमारी बेटियों, हमारी बहनों को अपमान के घूंट पीने पड़ेंगे..

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहद खूबसूरती से एहसासों को शब्दों में ढाला है सुमन जी,
    वैसे जब तक हमारे दिमागों में भरी पितृ सत्तात्मक सोच नहीं बदलती.. तब तक हमारी बहनों, हमारी बेटियों को ये दंश झेलना पड़ेगा..

    उत्तर देंहटाएं


  11. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥♥नव वर्ष मंगलमय हो !♥♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥



    कब तक शोषित होगी नारी
    इस सभ्य संकीर्ण समाज में ?

    अब समाज सभ्य रहा ही कहां ???
    आदरणीया सुमन जी

    मार्मिक कविता ...


    शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    उत्तर देंहटाएं
  12. जवाब अभी तक नहीं मिला... :((
    अपराधी अभी भी नहीं रुके...
    जो पकड़ में हैं ... उनका भी कुछ नहीं हुआ !
    इस देश का होगा क्या... पता नहीं... :(
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं