बुधवार, 22 अक्तूबर 2014

प्रेम का नव दीपक












जिंदगी की दीवार पर
चिन्हित हैं उम्र के झरोखे  
जलाना तुम हर बरस
प्रेम का नव दीपक
डालना सदभावना की डोरी
भरकर करुणा का भाव
प्रदीप्त करना मंगलकामना की लौ !!


( दीवार पर चिन्हित झरोखों में उम्र भर का सामान है ..फिर भी खाली प्रतीत होते हैं ... भरा हुआ खालीपन नहीं दिखता ना.. देखो न ! प्रेम खालीपन में समाहित हो कितना जगमगाने लगा है !! )
 दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें ..... 

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपको दीपावली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ !

    कल 23/अक्तूबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति...........दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें! मेरी नयी रचना के लिए मेरे ब्लॉग "http://prabhatshare.blogspot.in/2014/10/blog-post_22.html" पर सादर आमंत्रित है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा 23-10-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1775 में दिया गया है
    आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनुपम प्रस्तुति....आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति… दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर...दीप पर्व की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'मंगल कामना की लौ' ज्योतित रहे - चतुर्दिक् प्रकाश भरती रहे !

    उत्तर देंहटाएं