Click here for Myspace Layouts

सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

शुक्रवार, 25 नवंबर 2016

वो लड़का ~1














वो लड़का
सारे दिन के
बोझिल पलों को
सुला देता है
थपकियाँ देकर
हर रात
अपने बिस्तर में
आँख मूंदती
बेजान हसरतें
जब निढाल हो
सो जाती हैं
एक कोने में
वो उन्हें लेकर
अपनी हथेली में
सुबकता है रात भर
सुबह उठकर
फिर जीने लगता है
कुछ और बोझिल साँसें
होठों पे मुस्कराहट के साथ
वो लड़का बहुत शातिर है !!


सु-मन 

शुक्रवार, 11 नवंबर 2016

गर्माहट










सुनो ! 
याद है वो कड़क धूप 
तपे थे जिसमें हम दोनों 
रख ली है मैंने संभाल के 

शरद में ओढेंगे 
इस गुनगुने मौसम में 
भर देंगे थोड़ी सी गर्माहट !!


सु-मन