शुक्रवार, 11 नवंबर 2016

गर्माहट










सुनो ! 
याद है वो कड़क धूप 
तपे थे जिसमें हम दोनों 
रख ली है मैंने संभाल के 

शरद में ओढेंगे 
इस गुनगुने मौसम में 
भर देंगे थोड़ी सी गर्माहट !!


सु-मन