Click here for Myspace Layouts

सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

शनिवार, 20 नवंबर 2010

उसका गम

क्यों वो चेहरा धुन्धला सा


             नज़र आने लगा है हमें


अपना होते हुए भी


            बेगाना लगने लगा है हमें


क्यों बैठे ही बैठे


            कहीं   डूब   जाते    हैं    हम


ना होती किसी की चाहत


            ना    किसी    का      गम

बस एक झलक को उसकी


           तरस    जाते    हैं    हम


ये सोचते ही सोचते


          उसके गम डूब जाते हैं हम.............


 
                                                                                                                     सु..मन