बुधवार, 21 जुलाई 2010

इक कतरा जिन्दगी का.........










इक कतरा जिन्दगी का.........



रोज शाम यूं ही रात में बदलती है
                            पर हर रात अलग होती है
कभी आँखें ख्वाबों से बन्द रहती हैं
                           कभी तन्हा ही नम रहती हैं !!

                                                                                        सु..मन 

18 टिप्‍पणियां:

  1. kabhi-kabhi choti si kavita bahut badi bate kaha jaati hai .....jaise is kavita me...........

    उत्तर देंहटाएं
  2. KYA KAHUN.. NISHABD KAR DIYA HAI IN PANKTIYO NE ... KUCH AAPBEETI SI HAI YE ..

    AKELAPAN KA DARD ..KYA KAHE ..BAS AAH HAI

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी टिप्पणी कहाँ गयी ? :( :(

    खैर ....सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ! क्या बात है !
    आपने तो गागर में सागर भर दिया !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आओ तुम्हे गुण गुना लो किसी गीत कि तरह
    सुमन जी इन पंक्तियों से आप को प्रणाम !
    सुंदर !
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. waah,suman............
    kaafi gehri baat kar di tumne do lines me hi...... :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुंदर पंक्तियां है सुमन जी

    उत्तर देंहटाएं