Click here for Myspace Layouts

सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

गुरुवार, 16 अगस्त 2018

और तुम जीत गए















पक्का निश्चय कर
साध कर अपना लक्ष्य
चले थे इस बार ये कदम
मंजिल की ओर

मन में विश्वास लिए
मान ईश्वर को पालनहार
कर दिया था अर्पित खुद को
उस दाता के द्वार

मेहनत का ध्येय लिए
कर दिए दिन रात एक
त्याग दिए थे हर सुख साधन
कर्म के इम्तिहान में

कभी किसी पल
तुम आकर मुझे डराते
तोड़ने लगते थे मेरा विश्वास
अपने दलीलों से
तब मैं -
मन में ऊर्जा सृजित कर
ख़ामोश कर देती थी तुमको
मेहनत और कर्म की प्रधानता से

बाद महीनों -
तुम फिर मेरे सामने हो
उन्हीं दलीलों के साथ
सशक्त, अडिग,ऊर्जावान
और मैं -
मेहनत के उड़ते रंग लिए
विश्वास की टूटी डोर पकड़े
ख़ामोश, मँझधार , ऊर्जाहीन ।

ऐ प्रारब्ध !
इम्तिहान में हारी मैं और तुम फिर जीत गए !!

सु-मन

सोमवार, 13 अगस्त 2018

बिछड़न












आज ...
निकाल कर 
सूखे पत्तों को 
रख दिया अलग करके
.
.
बिछड़न हिस्सों में बँट कर जीना सीखा देती है !!



सु-मन 

शनिवार, 4 अगस्त 2018

रेशम सी जिंदगी























रेशम सी जिंदगी में
नीम से कड़वे रास्ते
धुँधली सी हैं मंजिलें
अनचाहे कई हादसे !!

सु-मन