Click here for Myspace Layouts

सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

सोमवार, 28 मई 2018

शब्द से ख़ामोशी तक – अनकहा मन का (१४)
























असल में हम अपने ही कहे शब्दों से धोखा खाते हैं और हमारे शब्द हमारी चाह से ।

हम सब धोखेबाज़ हैं खुद अपने !!




सु-मन