शनिवार, 3 जुलाई 2010

बरसात

बरसात जब होले होले दस्तक देने लगती है तो इस धरा का जर्रा जर्रा महक उठता है यूं लगता है कि नवजीवन का संचार हुआ हो ।मन मचल उठता है कुछ लिखने को.........

बरसात



घना फैला कोहरा
कज़रारी सी रात
भीगे हुए बादल लेकर
फिर आई है ‘बरसात’;


   अनछुई सी कली है मह्की
   बारिश की बूंद उसपे है चहकी
   भंवरा है करता उसपे गुंजन
     ये जहाँ जैसे बन गया है मधुवन;


     रस की फुहार से तृप्त हुआ मन
     उमंग से जैसे भर गया हो जीवन
    ’बरसात’ है ये इस कदर सुहानी
          जिंदगी जिससे हो गई है रूमानी !!

                                                                                      
                                                                                                     सुमन 'मीत' 

21 टिप्‍पणियां:

  1. हैप्पी बारिश !
    बारिश मुबारक !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बारिश आएगी तो ये पंक्तियां तो आएंगी हीं....वैसे भी मन तो बावरा होता है। लगता है बरसात कैसी होती है ये भूल सा गया हूं। चलिए दिल्ली मे इंतजार है मानसून का फुहारों का। शायद इस बार बरसात फिर से जी जाए...अपने अंदर...

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूबसूरत अभिव्यक्ति...हलकी हलकी फुहारों जैसी

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी कलियाँ यूँ ही बरसात में मुस्काती रहे ......

    खूबसूरत अभिव्यक्ति....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बूँदें तो दिल को महका देती हैं ..... सुंदर रचना है ... बरसात का आगमन शुभ हो ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक चादर, तनिक झीनी, प्रकृति ने लपेट ली,
    मुझे शर्माती लगे वो, लोग बारिश कह रहे ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut umda rachna hai, apke blog par pehli baar ana hua, bansant bahar ki tarah kafi bhara pura blog hai with great positive vibes..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बरसात की तरह ताज़गी से भरती सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं