Click here for Myspace Layouts

सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

शनिवार, 19 फ़रवरी 2011

जिन्दगी : बस यूँ ही
















     1

जिन्दगी की खुशियाँ
दामन में नहीं सिमटती
ऐ मौत ! आ
तुझे गले लगा लूँ...........


    2

जिन्दगी एक काम कर
मेरी कब्र पर
थोड़ा सकून रख दे
कि मर कर
जी लूँ ज़रा..........
   


  3
 
जिन्दगी दे दे मुझे
चन्द टूटे ख़्वाब
कुछ कड़वी यादें
कि जीने का
कुछ सामान कर लूँ........




                                                                            सु..मन 

32 टिप्‍पणियां:

  1. मर कर जी लूं जरा...वाह!! सुभान अल्लाह!! क्या बात है!! गहरी!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुमन जी
    ये भाव सामान्यत: घोर नैराश्य से जनित हैं
    पर भाव है कविता बन ही जाते हैं. सच मैने भी कई बार इसे महसूस किया

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह जी जबाब नही आप की गजल का, बहुत खुब धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. तीनो रचनायें दिल मो छू गयी। मगर ज़ुन्दगी सकून देना जानती होती तो ज़िन्दा रहते ही दे देती। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. मर कर भी चैन न आया तो ? बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या खुब लिखा है आपने...बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बहुत सुंदर.
    मर्मस्पर्शी रचना बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही संवेदनशील प्रस्तुति...बहुत संदुर

    उत्तर देंहटाएं
  11. मर्मस्पर्शी क्षणिकायें ! बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्षणिकाएं
    उदास होते हुए भी
    मन को सुकून बख्शती हैं.....
    अभिवादन .

    उत्तर देंहटाएं
  13. गम है तो मजा है जीने का ...
    वर्ना खली कोई कमरा हो जैसे !
    जिंदगी से क्या क्या मांग लिया आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  14. माशा अल्लाह.
    क्या लिखा है आपने.
    सलाम

    उत्तर देंहटाएं
  15. आख़िरी पंक्ति बहुत पसंद आई
    और एक शेर भी याद आ गया
    चला जाता हूँ हंसता खेलता दौरे-हवादिस से
    अगर आसानियाँ हो ज़िंदगी दुश्वार हो जाए

    उत्तर देंहटाएं
  16. समेट कर इतना प्यार दामन में, कैसे जी पाओगे 'मन'... जीने के लिए थोड़ा सा दर्द उधार ले लो..

    उत्तर देंहटाएं
  17. हृदय स्पर्शी, मर्म स्पर्शी..... बहुत खूब अंदाज़े-ब्यान है दर्द का.......

    उत्तर देंहटाएं
  18. amazing lines, bahut der se padh raha hoon , man me gahri utarti hui.. man thoda ashaant hua , ab shaant ho gaya hai .. thanks for the philosphical touch.

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह जनाब वाह
    क्या गागर में सागर समेटा है
    आखिरी वाली ज्यादा ही अच्छी लगी मुझे तो

    उत्तर देंहटाएं