रविवार, 17 जून 2012

ऐ बाबुल


















बाबुल मोहे रहने दे
अपनी प्यारी बिटिया ही  
मत तोड़ मुझे डाली से
खिलने दे अपनी बगिया ही …….

बेटा बनकर तुझको संभालूं
बुढ़ापे का बनूँगी सहारा भी
कभी न छोडूंगी तेरा दामन
आँखें बन करुँगी उजियारा भी

बाबुल मोहे रहने दे
अपनी प्यारी बिटिया ही......

रिश्ते जहाँ में झूठे हैं सारे
नहीं और रिश्ता तुझसा कोई
क्यूँ कहें दुनिया मोहे ऐ बाबुल
बेटी जैसा बोझ ना दूजा कोई

बाबुल मोहे रहने दे
अपनी प्यारी बिटिया ही.....

माँ की लोरी याद है आती
वो मुझको सहलाती बाहें तेरी
पुकारे मुझको घर का आँगन
ये महकती हुई फुलवारी तेरी

बाबुल मोहे रहने दे
अपनी प्यारी बिटिया ही.......

बचपन में तूने थामा हाथ मेरा
अब तुझको ना गिरने दूंगी कभी
समय को बदलने दे अपने तेवर
तू डर मत मैं न बदलूंगी कभी

बाबुल मोहे रहने दे
अपनी प्यारी बिटिया ही.....

कभी ना भटकूंगी कर्म पथ पर
हर मुश्किल से लड़ लूंगी मैं भी
आशीष तेरा रहे सदा मुझ पर  
बस इतना कर्म करना तू भी


बाबुल मोहे रहने दे
अपनी प्यारी बिटिया ही
मत तोड़ मुझे डाली से
खिलने दे अपनी बगिया ही........!!




                                     


  सु ..मन 

20 टिप्‍पणियां:

  1. पितृ दिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा बाप आपको मिला , यह बड़ी खुशनसीबी है.
    देखें-
    "बाबुल तेरे देश में"
    http://blogkikhabren.blogspot.in/2012/06/masik-dharm.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी भावप्रणव प्रस्तुति!!
    पितृदिवस की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरती से बेटी के अंतर्मन को खंगालती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर अतिसुन्दर अच्छी लगी, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहद अच्छी और भावुक पंक्तियों में आपने अपनी भावनाओं को सरल अंदाज़ में अभिव्यक्त किया है सुमन जी..पिता और पुत्री का रिश्ता ही बहुत भावनात्मक होता है तो फिर कविता अछोती कैसे रह सकती है.. ! सुन्दर अभिव्यकि, बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहद अच्छी और भावुक पंक्तियों में आपने अपनी भावनाओं को सरल अंदाज़ में अभिव्यक्त किया है सुमन जी..पिता और पुत्री का रिश्ता ही बहुत भावनात्मक होता है तो फिर कविता अछोती कैसे रह सकती है.. ! सुन्दर अभिव्यकि, बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर भाव ...पर पिता ही तो बेटी को जीवन कर्म में उतारते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    बेहतरीन रचना

    केरा तबहिं न चेतिआ,
    जब ढिंग लागी बेर



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ संडे सन्नाट, खबरें झन्नाट♥


    ♥ शुभकामनाएं ♥
    ब्लॉ.ललित शर्मा
    **************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर ... बेटा बनके तुझे संभालूंगी.. हर बेटी के मन की बात

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या कहें , बहुत सुन्दर और दिल को छूती भावनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मार्मिक ... दिल कों गहरे छू गई रचना ... अनुपम भाव हैं ... आँखे नम हो जाती है पढ़ के ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. very nice poetry .. it really leaves an everlasting effect ,.. even i write poems in hindi have a look at my blog
    http://truth-through-poetry.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं