बुधवार, 24 जून 2015

मन की गलियों को टोहती स्मृतियाँ











जीये जाते हुए जाना
व्यर्थ नहीं होता कुछ भी
हर पल के हिस्से में
लिखा होता है कुछ खास
चाहा या अनचाहा

आस के ढेर पर बैठ
जीए जाते हैं हम अनेक पल
हर आने वाले पल में
तलाश करते हैं बस ख़ुशी
भूल जाते हैं अपने गुनाह
अपनी इच्छाओं की चाहते हैं पूर्ति  

ताउम्र देखते हैं सपने
उम्मीद के तकिये पर सर टिकाये
लेते जाते हैं सुख भरी नींद
टूट जाने पर हो जाते हैं उदास
झोली भर भर के बटोरते हैं रतजगे

वक़्त के गुजरे हिस्से से 
नहीं होता है जुदा हमारा आज
उम्र लिखती है हर नया बरस लेकिन
वक़्त और तारीख याद दिलाते हैं कुछ जीया
मन की गलियों को टोहने लगती हैं कुछ स्मृतियाँ !!
*****


सु-मन 

20 टिप्‍पणियां:

  1. आज को काट फैंकना आसान नहीं होता ... जीते जी मरना होता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, जीना सब को नहीं आता - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 25-06-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2017 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिखरे हुए सपनो को संयोजित करते शब्द !

    उत्तर देंहटाएं
  5. टोह लेती स्मृतियाँ सुन्दर हैं। शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिन जो पखेरू होते---पिंजरे में,मैं रख लेता
    काशः?

    उत्तर देंहटाएं
  7. बीते हुए कल को भुलाना कहाँ संभव होता है...दिल को छूती बहुत भावमयी प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच में व्यर्थ कुछ भी नहीं होता. गुजरा हुआ वक़्त हमेशा यह एहसास कराता है कि जिए हुए पल की अनमोल पूँजी हमारे पास है. बेहद गहरी पोस्ट.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच में...हमारी साँसे आज की है पर जीते हम कल में है

    उत्तर देंहटाएं