@सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

शनिवार, 23 मई 2020

लॉकडाउन 4.0 का दूसरा दिन




                                                                

                    लॉकडाउन 4.0 दूसरा दिन दो दोस्त जो एक दूसरे से कोसों दूर थे पर दिल के करीब , आज कुछ ग़मगीन थे | कोरोना अब तक लगभग एक लाख इंसानों को संक्रमित कर चुका था और दिन -बदिन स्थिति बिगड़ती जा रही थी |
मानवी ने पिंग किया – क्या हम रोज आंकड़े ही गिनते जायेंगे |
विवेक – हम्म 
मानवी – कब तक ?
विवेक – जब तक ..
मानवी – जब तक क्या  ?
विवेक – जब तक हम में से बहुत सारे ....
इस अकल्पित जवाब से घबराई मानवी – ऐसा मत कहो
विवेक – सिर्फ हम सब ही लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार नहीं कर रहे और कोरोना हमसे ज्यादा इंतजार कर रहा |
मानवी – शायद अब इंतजार के आलावा कोई और विकल्प नहीं पर इंतजार की परिभाषा रोज़ बदलेगी |
विवेक चुप था , जवाब में एक इमोज़ी बस |
मानवी का मन बहुत उद्विग्न (व्याकुल) था , लिखा – ये कब खत्म होगा ?
विवेक – जब 70% को कवर कर लेगा |
मानवी – ऐसा मत बोलो , ये सोच के दिमाग घूम गया | अच्छा एक बात बताओ |
विवेक – हम्म
मानवी – डाक्टर बोलते इलाज संभव ही नहीं तो लोग ठीक कैसे हो रहे फिर | दवाई से ही ना |
विवेक – Quite interesting .. एक थिओरी है कि एक इंसान से 2.5 इंसानों को पहुँचता और जिनका  immunity सिस्टम अच्छा होता वो survive कर जाते |
मानवी – तो सभी को immunity की वैक्सीन लगनी चाहिए ना फिर सभी ठीक रहेंगे |
विवेक - रिसर्च हो रही क्या बोल सकते हम अभी |
मानवी – क्या हम बहुत से अपनों को खो देंगे |
विवेक – भविष्य के गर्भ में क्या छिपा किसे पता |
मानवी - इसका मर्म बहुत गहरा होगा....
विवेक - गहरा या उथला क्या फर्क पड़ता है मानवी, कभी देखा है मौत को जिंदगी के लिए रोते हुए ।


दोनों तरफ अब बस सन्नाटा था । शायद लफ्ज़ों को हिम्मत नहीं थी अब कीबोर्ड में उतरने की ।
लॉकडाउन 4.0 का दूसरा दिन भारी मन के साथ तीसरे दिन में प्रवेश कर रहा था ...!!


 सु-मन



5 टिप्‍पणियां: