रविवार, 19 जून 2011

गम-ए-जिन्दगी

















अश्क बनकर बह गए जिन्दगी के अरमां

चाहतें  अधूरी रह  गई इसी  दरमियां


खाबों का घरौन्दा टूट कर बिखर गया

हमसे हमारा साया ही जैसे रूठ गया


फूल भी जैसे अब न बिखेर पाये खुशबू

कांटे ही कांटे हैं जीवन में जैसे हरसू


दिल जैसे रो रहा पर होंठ मुस्कराते

गम-ए-जिन्दगी का ज़हर पीते जाते


इस चमन से आज ये सुमन है पूछे

क्या पाया है उसने जिन्दगी से मिल के


क्या पाया है उसने जिन्दगी से मिल के............
                                              


                                       सु..मन                                                                    


26 टिप्‍पणियां:

  1. दर्द के एहसास से भरी .. कोमल प्रस्तुति. ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल से लिखी गयी रचना आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक विस्तृत आसमां है,
    राह मे तेरी खड़ा है,
    अश्रु का धुंधला हटा कर,
    नीलिमा को देख प्यारे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (20-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक शेर याद आ गया आप की कविता पर..

    जिन्दगी तेरे गम ने हमे रिश्ते नए बतलाये
    मिले जो हमे धुप में मिले छांव के ठंढे साये ......

    उत्तर देंहटाएं
  6. दर्द की दास्तान है
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिल जैसे रो रहा पर होंठ मुस्कुराते
    ग़मे-ज़िन्दगी का ज़हर पीते पीते
    अच्छी रचना के लिए बधाई सुमन जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया ........

    उत्तर देंहटाएं
  9. वन्दना जी धन्यवाद मेरी रचना को स्थान देने के लिये...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहद सुंदर लिखती हैं आप,क्या कहूँ ,पर दर्द क्यों इतना,अक्सर मंथन करने की कोशिश करता हूँ ,फ़िर छोड़ देता हूँ ।

    जो भी हो जबर्दस्त प्रस्तुति होती है आपकी भावनाओं की ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब खूबसूरत रचना बहुत सुंदर अभिव्यक्ति. ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. खाबों का घरउँदा---- बहुत दर्द है इन पँक्तिओं मे। अच्छी रचना। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. गतिशील भावनाओं को स्वर ...सुंदर अभिव्यक्ति आभार जी /

    उत्तर देंहटाएं
  14. गहन वेदना दिखाई दे रही है ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही भाव पूर्ण ... सच में जिंदगी से अगसर वो नहीं मिलता जो इंसान चाहता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ दिल को छू गयी!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. दिल के अरमां आंसुओं में बह गए....

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक दर्द भरी दास्ताँ ... मर्मस्पर्शी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. दिल जैसे रो रहा पर होंठ मुस्कुराते
    ग़मे-ज़िन्दगी का ज़हर पीते पीते
    khoobsurat rachna

    उत्तर देंहटाएं