Click here for Myspace Layouts

सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

शुक्रवार, 8 जून 2012

मन बावरा




















मन बावरा 
उड़ने चला 
पंख बिना 


टूटे पंख 
छूटे सपने                                    
बादल बरसे 


कलम भीगी 
लफ्ज़ पनपे 
नज्म उभरी !!








सु-मन 



13 टिप्‍पणियां:

  1. पंख के बिना उड़ान लंबी होगी
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसी उड़ान से ही तो बेहतर नज़्म बनती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी लगी यह कविता। सु-मन को कविता से जोड़ कर पढ़ा।:)

    उत्तर देंहटाएं