शुक्रवार, 2 अगस्त 2013

इक ख़याल की कब्र पर












रात फिर
इक ख़याल की कब्र पर
बैठे रहे कुछ लफ्ज़,
करते रहे इन्तजार उन एहसास का
जो दब कर गुम हो गए थे
उस वक्त उस आखिरी घड़ी,जब
ख़याल, ख़याल न रह कर
कब्र में दफ़न हों गया था उस रोज ....

एक शबनमी बूँद कुछ बीते लम्हों की
उन लफ़्ज़ों पर पड़ी कि अचानक
साँस लेने को कुछ सामान मिला
लरजने लगे वो मिट्टी को कुरेदते हुए
बरसों से दबे ख़याल को सहलाने की खातिर...

पर रूह से बेजान ख़याल ख़ामोश लेटा
किस करवट बदलता भला
कैसे निकल आता उस कब्र से
जिसे अपने हाथों से दफ़न किया था
उस रोज,उस फ़रिश्ते ने जाने क्या सोच कर .....

लफ्ज़ देर रात तक कब्र के सरहाने बैठ
ख़याल की बाहों में उतरने को बेचैन रहे
और ख़याल करता रहा इन्तजार फ़रिश्ते का
भोर की पहली किरण तक ....!!

----------------------------------------------

इक ख़याल की कब्र पर, लफ्ज़ अधलेटे हैं अभी
इक ख़याल को आज भी फ़रिश्ते का है इन्तजार !!
             *****



सु..मन 

37 टिप्‍पणियां:

  1. Wonderful and excellent-.....kuchh khayal ko aaj fariste kaa intjar hai....kksingh-www.kksingh1.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. ख़याल लेंगे एक नज़्म की शक्ल.....
    ख्यालों को लाख दफ़न कर दो..कमबख्त मरते नहीं.....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. This one's beautiful and the bestest of yours I've read till now....

    Superb!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही खूबसूरत रचना खासकर अंतिम दो पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँजी..वही पंक्तियाँ तो निचोड़ हैं इस रचना का

      हटाएं
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(3-8-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए शुक्रिया

      हटाएं
  6. निःशब्द करती खुबसूरत एहसास फ़रिश्ता आएगा ही शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 04/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. शानदार लिखा है |सुन्दर शब्द चयन |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  9. आओ, उनको गतिमय कर दो,
    शब्द ठिठक बैठे हैं कब से।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ख़ूबसूरत और भावमयी रचना...

    उत्तर देंहटाएं