Click here for Myspace Layouts

सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

शुक्रवार, 7 मार्च 2014

वक्त की तासीर














दिन गरम है अब 
और रातें ठण्डी 

सुना है 
सूरज को लग गया है 
मुहब्बत का रोग 
सुलगने लगा है दिन भर 

शाम की माँग में 
टपकने लगा है 
उमस का सिन्धूर 
आसमां रहने लगा है ख़ामोश 

रात कहरा कर 
ढक लेती है 
ओस का आँचल 
चाँद ताकता है मुझको रातभर 
****************

बदल रहा है मौसम शायद 
वक्त के बयार की तासीर बदल रही है !!


सु..मन 





14 टिप्‍पणियां:

  1. वक्त कहाँ सदा निर्मम रहता है, वह भी पिघलता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मौसम के साथ तासीर बदल जाती है...फाल्गुन चढ़ गया है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मौसम को आना और जाना है....पर हम उसी के द्वन्द में ठगे जाते हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर बदलते मौसम का तासीर.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुहब्बत का रोग लग जाए तो होश कहाँ रहता है ...
    सुन्दर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. रात जब आती है
    अजीब सा सुकून लाती है..

    गहरा सन्नाटा इतना कि
    खुद का अहसास नहीं होता
    गम सीने से लगा रहता है
    और दर्द नहीं होता
    जिस्म पिंघल जाता है
    बस एक सोच तैरती रहती है

    रात जब आती है
    अजीब सा सुकून लाती है..

    उत्तर देंहटाएं