गुरुवार, 9 फ़रवरी 2017

वो लड़की ~ 3













बहुत उदास सी है 
शाम आज 
आसमान भी
खाली खाली 
घर की ओर बढ़ते
उसके कदमों में 
है कुछ भारीपन 
यूँ तो अकसर 
दबे पाँव ही आती है 
ये उदासी 
पर आज 
न जाने क्यूँ 
इसकी आहट में 
है चुभन सी 
जो उसकी रूह को 
कचोटती हुई 
भर रही है 
उसकी नसों में 
एक धीमा ज़हर 
और वो 
अजाने ही उसको 
समेट रही 
आँखों के प्याले में 
पी रही 
घूँट घूँट नमी 
वो लड़की बहुत उदास है !!


सु-मन 

11 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 10 फरवरी 2017 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. N jaane kyon uski aahat udas si hai, par hai kuch kuch albeli si bhi......

    उत्तर देंहटाएं
  3. उदासी की आहट बहुत देर तक रहती है ... बहुत कुछ कहती हुयी लड़की की उदासी ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’बाबा आम्टे को याद करते हुए - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. उदासी की आहट हमें अन्दर ही अन्दर बहुत ड़राती हैं................
    कुछ ना कहते हुए भी बहुत कुछ कह रहीं हैं उदास लड़की।
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (12-02-2017) को
    "हँसते हुए पलों को रक्खो सँभाल कर" (चर्चा अंक-2592)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं