बुधवार, 11 अक्तूबर 2017

गुनगुने दिन






















गुनगुने से हैं दिन अब 
रातें अधठंडी
मौसम के लिहाफ में 
शरद लेने लगी है करवट ||

सु-मन 

7 टिप्‍पणियां:

  1. अनमने से हैं दिन अब
    रातें हैं बेचैन
    बिस्तर के लिहाफ में
    ख्वाब लेते हैं करवटें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा 12-10-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2755 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. अचानक एक दिन शॉल की जरुरत महसूस होने लगेगी

    उत्तर देंहटाएं