@सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्वाधिकार सुरक्षित @इस ब्लॉग पर प्रकाशित हर रचना के अधिकार लेखक के पास सुरक्षित हैं |

मंगलवार, 22 दिसंबर 2020

शब्द से ख़ामोशी तक – अनकहा मन का (१९)

मन !
                                  कुछ मान्यताओं से बंधे हम, अक्सर उनसे जकड़ कर रह जाते हैं । भूल जाते हैं खुद को, उनके सहारे जीवन जीते हैं और कुछ हासिल न कर दुखी होते हैं । फिर एक क्षण, जाने कैसे उस जकड़न से छूट कर भारमुक्त हो जाते हैं । सच मानो ! उन कुछ मान्यताओं का भार सिर्फ देह पर ही नहीं , मन पर उससे कई गुणा होता है और जब उतरता है तो देह और मन दोनों साँस से भी हल्के हो जाते हैं । यूँ भारमुक्त होना प्रियकर होता है ।

सु-मन 

3 टिप्‍पणियां: