शनिवार, 25 मई 2013

ऐ मेरे दोस्त..लफ्ज़















ऐ मेरे दोस्त !
सुनो ना....
क्यूँ रहते हो 
अब मुझसे तुम
यूँ खफा खफा
जानती हूँ कुछ रोज हुए
नहीं ढाल पाई मैं तुमको
एक नज़्म में
न ही बन पाई मुझसे
कोई कविता ....
ख़याल थक कर
गुम हो गए हैं जैसे
जेहन के किसी कोने में
छिप गए हैं मिलकर सभी ...
जानते हो-
कितना तन्हा होती हूँ
उस वक़्त तुम्हारे बिना
जब डायरी के सफ़ेद पन्नों पर
नहीं होती तुम्हारी आहट
और कलम की बेचैनी
टीस बन चुभती है भीतर कहीं....
बसंत खिल चूका है अब
मौसम के केनवस पर
उभरते हैं रोज नए शेड
उकेरना चाहती हूँ उनको
तुम्हारे संग
इन सफ़ेद कागजों को
चाहती हूँ रंगना
पर .. जाने कब तक
यूँ रहेगा इन पन्नों में
पतझड़ का मौसम
कब तुम उतरोगे रूह में मेरी 
जाने कब 
लफ्ज़ों की बरसात होगी ।।


सु..मन

22 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!!

    जाने कब लफ्जों की बरसात होगी...


    बहुत भावपूर्ण!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर सुमनजी!भाव,भावनाएं,उन्हे कागज पर उतारा जाना और वे शब्द जो उन्हे पहनाए गए-सभी कुछ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. होगी ...जल्दी ही लफ्जों की बरसात होगी ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. लफ़जों के बरसात की ख्‍वाहि‍श तो हमेशा ही होती है...बहुत खूब लि‍खा

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (26-05-2013) के "आम फलों का राजा होता : चर्चामंच 1256"
    में मयंक का कोना
    पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. लफ़्ज़ों की बरसात तो अब भी खूब हुई .....सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. लफ़्ज़ों की तो इस रिमझिम बरसात ने ही तन मन भिगो दिया ! जब घनघोर वृष्टि होगी तब तो साथ ही बहा ले जायेगी ! बहुत ही सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  8. जज़्बात को शब्दों में बहुत बढिया उकेरा है. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रेम के उजालेपन को जीवन में बिखेरने का गजब का अहसास
    सुंदर अनुभूति
    बढ़िया रचना
    बधाई

    तपती गरमी जेठ मास में---
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर.............!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक का प्रसारण सोमवार (03.06.2013)को ब्लॉग प्रसारण पर किया जायेगा. कृपया पधारें .

    उत्तर देंहटाएं
  12. Jaane kab labjon ki barsat hogi..

    Bahut hi sundar bhaaw..

    Humare blog par aap saadar amantrit hai.

    http://sunnymca.wordpress.com

    उत्तर देंहटाएं