मंगलवार, 22 अक्तूबर 2013

करवाचौथ ..करवे बिन











(माँ की नज़र से पूज्य बाबू जी को समर्पित )

जानती हूँ
तुम अब नहीं हो
न ही रची है
मेरे हाथों में
तेरे नाम की मेहंदी
सुर्ख लाल चूड़ियों की खनक
जुदा है अब मेरे वजूद से
चाँद सा टीका
अब दूर छिटक गया है
झिलमिल सितारों वाली चुनरी
रंगरेज़ ने कर दी है
स्याह काली
नहीं सजाऊँगी मैं अब
करवे की थाल ।

पर ..सुनो !
रात, जब
चाँद निकलेगा ना
तुम उसकी खिड़की से झांकना
मैं मन के दर्पण में
देख लूंगी तुम्हारा अक्स
हाँ ,नहीं कर पाऊँगी
मंगल कामना
तुम्हारी लम्बी उम्र की
कि अब तुम देह बंधन से परे
जा उस लोक में
कर रहे मेरा इंतजार
और इस देह बंधन में बंधी
मैं कर रही तुमको नमन !!



सु..मन

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति है .
    यहाँ भी पधारे.
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (23-10-2013)   "जन्म-ज़िन्दग़ी भर रहे, सबका अटल सुहाग" (चर्चा मंचःअंक-1407)   पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. पर ..सुनो !
    रात, जब
    चाँद निकलेगा ना
    तुम उसकी खिड़की से झांकना
    मैं मन के दर्पण में
    देख लूंगी तुम्हारा अक्स
    हाँ ,नहीं कर पाऊँगी
    मंगल कामना
    तुम्हारी लम्बी उम्र की
    कि अब तुम देह बंधन से परे
    जा उस लोक में
    कर रहे मेरा इंतजार
    और इस देह बंधन में बंधी
    मैं कर रही तुमको नमन !!--------

    आंखे नम हो गयी
    भावुक,मार्मिक
    गहन अनुभूति की रचना
    सादर

    आग्रह है---
    करवा चौथ का चाँद ------

    उत्तर देंहटाएं
  4. पुरुष द्वारा करवे का व्रत रखने की परम्परा क्यों नहीं है?

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर मर्मस्पर्शी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाव पूर्ण ..... समर्पण का भाव भी अद्भुत होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. :-(
    प्रेम का एक रूप ऐसा भी...............

    अनु

    उत्तर देंहटाएं