शनिवार, 23 नवंबर 2013

जिजीविषा











गूंजने लगे हैं
फिर वही सन्नाटे
जिन्हें छोड़ आए थे
दूर कहीं ... बहुत दूर
तकने लगी हैं
फिर वही राहें
जो छूट गई थी
पीछे ... बहुत पीछे |

ख़याल मन में नहीं बसते अब
बस इसे छूकर निकल जाते हैं
बावरा मन समझ गया है
ख़याल मेहमान है
आये, आकर चले गए
हकीकत साथी है
चलेगी दूर तलक |

ये दो नयन भी नहीं छलकते अब
सेहरा बन गए हैं शायद
जिनमें उग आए हैं
कुछ यादों के कैक्टस
जिनके काँटों की चुभन से
कभी निकल आते हैं
अश्क के कतरे
जज़्ब हों जाते हैं
लबों तक आते आते |

घर में भी इंसान नहीं रहते अब
बस घूमती हैं चलती फिरती लाशें
नहीं पकती चूल्हे पर रोटी
खाली बर्तन को सेंकते
लकड़ी के अधजले टुकड़े
बिखेरते रहते हैं धुआं
तर कर देते हैं 
ये शुष्क आँखें |

कुछ इस तरह
जिंदगी को मिल जाती है
टुकड़ों टुकड़ों में
जीने के लिए
जिजीविषा !!






 सु..मन 

25 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार को (24-11-2013) बुझ ना जाए आशाओं की डिभरी ........चर्चामंच के 1440 अंक में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन की गहराइयों से शांत उभरे एहसास

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... ये जिजीविषा जरूरी है सांस लेने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुमन उम्दा भाव उकेरे हैं ………बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया वंदना दी ... बस आप सबका प्यार है ।

      हटाएं
  5. मीत ने
    ना देखा, ना दी कोई आवाज़ ही मुड़कर,
    हम
    आज भी इंतज़ार मैं नज़रें गड़ाए बैठे हैं,
    जैसे
    राह के हाशिये पर एक मील का पत्थर ।

    -पुलस्त्य


    उत्तर देंहटाएं
  6. टुकड़ों-टुकड़ों में मिली यही जिजीविषा शायद हर इंसान की नियति है ! बहुत ही सुंदर एवँ सशक्त भावाभिव्यक्ति ! बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हांजी साधना जी , सही कहा आपने ..शुक्रिया

      हटाएं
  7. वाह..!!! सुमन जी बहुत ही सुन्दर लिखा है ....लाजवाब....

    उत्तर देंहटाएं
  8. जी, एकदम..एकदम
    टुकड़ा..टुकड़ा तनहा-तनहा
    जिजीविषा ओह..जिजीविषा

    उत्तर देंहटाएं
  9. जितनी भी मिले, जैसी भी मिले, जिजीविषा नित भरती रहे।

    उत्तर देंहटाएं